चरणचिह्न

राधा के रक्तिम पाद पद्म पावन
निज हिय-निलय में चिरन्तन
बसाते न तुम नेह निष्ठां से यदुराय !
तो भक्ति-प्रेम के आदर्श का अध्याय
अनखुला पूरा का पूरा रह जाता
सृष्टि का आधार अधूरा रह जाता
कृष्ण, तुम्हारा अवतार अधूरा रह जाता !

← धुंआ धुंआ अनुक्रमणिका हरसिंगार →

Leave a Reply

Your email address will not be published.