द्वारिकाधीश

द्वारावती के नभ से स्वर्णप्रासाद में
झांक कर देख रहा है पीत रजनीश
याद कर अपनी राधिका को आज भी
छुपछुप कर रो रहे हैं द्वारिकाधीश ।

← सायन्तनी शोभा अनुक्रमणिका