अंतस्सागर

palak.2jpg

पलक-पल्लव से बहा पराग
अंकुरित हुआ मधुर संवाद

अस्फुट स्वरों का संकुल जाल
मधुछंदों में लिपटा-सा एक बार

श्वास-तटांत-शिला पर दुर्वार
उत्ताल तरंगों का भीम प्रवाह

मुंदी पलकों ने क्या लिया निहार
अन्तस् का सागर भर उठा हुंकार !

← कलिका से अनुक्रमणिका पाषाणी →