कैसे कह दूँ

 

देश-हित किया उत्सर्ग जीवन
शूरवीर शहीदोंको शत बार नमन
श्रद्धांजलि दे रहा राष्ट्र साश्रु नयन
आक्रोश से भरा है जन गण मन
घर में घुस कर मार जाता है दुश्मन
शर्म से झुक जाती है हमारी गर्दन
कैसे कह दूँ `प्राउड टु बी इंडियन`!

← पिछली रचना अनुक्रमणिका धूप-छांह →

2 comments

  1. अभिषेक says:

    शत्रु के इस कुकृत्य से, छोटा मत कर तू अपना मन
    धर्म-अधर्म का चिरकालीन युद्ध है यह, बढ़ा तू सेना का मनोबल
    सनातन संस्कृति का स्मरण कर और गर्व से कह ‘प्राउड टु बी इंडियन’ ।
    😊😊😊

    • Kiran Bhatia says:

      धन्यवाद । उत्साह व उल्लास का उद्रेक करती हुई पंक्तियाँ हैं आपकी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *