कन्हाई

sandarbh-R-2_n
तुम चिर चपल
मैं चिर विकल
मूढ़ निज दर्प से
खंडित सन्दर्भ से

विकट भवाटवी भयावह भ्रमण
जरा आधि-व्याधि क्षरण-मरण
अंत समय चेतना का हरण
किस विध तुम्हें करूं स्मरण

प्रमाद अधिक समय है अल्प
निद्रित मनुज के सुख-संकल्प
अहोनिश केवल साधन-उपार्जन
भोग ही बन कर रह गया जीवन

अदृष्ट लेख के अक्षर समेटे
विगत के कलि-कल्मष लपेटे
स्वयं ही से हूँ मैं स्वयं वियुक्त
मन चाहे होने को एषणा-मुक्त

जीर्ण हो गया नीड़ का कण-कण
विदीर्ण हो कब मन का तमावरण
वह निर्विकार हो कर मंगला गाये
वंशी बजाता तव रूप अंतर प्रगटाये

नमिता चाहूँ मैं कृपा-दृष्टि की कोर
प्रसन्न वदन से देख लो इस ओर
बैठे तमाल तरु पर लिए वंशी हाथ
रसमाती तान में राधा-रूप है साथ

कस्तूरी-सौरभ बिखेरता है पवन-प्रवाह
पीताम्बर को फहरा जाता मंद गंधवाह
देखूं तव ऒर दृष्टि सजल सतृष्ण
नमन करूं करबद्ध तुम्हें हे कृष्ण !

← पाषाणी अनुक्रमणिका शर-कान्तार →