मार्गदर्शन

 

कल तक था जो दूर क्षितिज
आज छोर बना है वर्तमान का
सांझ आ पहुंची जीवन की
सन्निकट समय प्रस्थान का
बहुभोगप्रवण जीवन, सहसा
मंत्र मर्म पाया ध्यान का
कृतज्ञ हूँ ,मिला दिनयाम मौन
मुझे मार्गदर्शन भगवान का
← भोग और जीवन अनुक्रमणिका जिजीविषा →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *