प्रात-मित्र

ee1d179a9f118111912b8995bb117c61
ee1d179a9f118111912b8995bb117c61
ee1d179a9f118111912b8995bb117c61

प्रात की प्राणस्फूर्तिनी बेला
वृक्षाच्छान्न उद्यान के मध्य
फव्वारे की सशब्द बौछार
और उस धाराकुण्ड से
कुट्टिम पथ पर
पड़ती जलधार की फुहेरियों से
मची हुई कीच के बीच
पंकिल घास पर से होते हुए
प्रात-अनिल के साथ ही बहते हुए
तुम भी बहते
चले आते हो मीत !
जल-फुहार-भीगे पथ से
चीरते हुए मेरे सपनों की
इतराती भीड़ ।
जब चोंच में
दाना दाबे चिड़िया
पहुंचने लगती है
अपने नीड ।
और
आता तुम्हें देख
मेरी ही तरह
रोमांचित हो उठते हैं
उद्यान-पथ के
तृण-लता-गुल्म
चम्पक-तरु के
पुष्प-स्तबक और कोरक ।
तृणों के अंतराल से दौड़ती
चीटियों की उतावली कतार
प्रात-पाखी की कलकण्ठ पुकार
नेत्र-युग्म के रक्तिम डोरे
आतप-स्नात पवन झकोरे
द्रुम-शाख से लटकती
तंतुओं की कृश जाली
धरती की रोमावली-सी
हरी मसृण घास पर
मदिर अंगुलियां फेरती
किशोर-रवि की अरुणाली
तथा
बाहु-पल्लव अपने खोले
हवा में झूमते चौड़े चीड़ ।
और तब
खुलती-मुंदती पलकों के
कज्जल पथ पर
रास्ता भूले हुए बटोही-सी
दिग्भ्रांत हो जाती है
कुछ काल के लिए
मुझमें सिमटी हुई
मुझसे सिटकी हुई
मेरे
देह और मन की पीड़ ।

← आराध्या अनुक्रमणिका अदृष्ट से अभिसार →