शर-कान्तार

thorns-sil

चिंतन-तरु से लिपट चली विमूढ़ मन की कुंजलता
प्रेय-श्रेय के शर-कान्तार में मूक हो गई मादकता
नन्हा-सा हृत्पिंड तृषा-तुषारापात में ठिठुर गया
रोम-रोम के कनक-कूप से ऐरावत गुजर गया ।

रश्मिरेखा मंद हास की किसी उघड़ती सीपी-सी
कपोलपालि पर तैर गई रहस्य के घूँट पीती-सी
रुनझुन हुई शिराओं में गूंजा स्वर जो कर्ण-कुहर में
चिंगारी-सी चटक गई चटुल नेत्रों के तारा युगल में ।

← कन्हाई अनुक्रमणिका उल्का →